Hello Dosto

welcome my website Healthy Dunia.in

आज हम सूयभेदन प्राणायाम के बारे में जानेंगे। कि (What is Suryabhedan Pranayam) सूर्यभेदन प्राणायाम क्या होता है। इसे करने से हमे क्या – क्या फायदा होता है। इनको करने से हमे कौन – कौन सी बीमारियों से छुटकारा मिलता है। और इसको करते समय हमे किन – किन सावधानियों का ध्यान रखना चाहिए।

Image Source Google

सूर्यभेदन प्राणायाम क्या है। (What is Suryabhedan Pranayam in Hindi 2019)

सूर्यभेदन प्राणायाम दो शब्दों से मिलकर बना है- सूर्य + भेदन। जिसमे सूर्य का अर्थ है, सूरज और भेदन का अर्थ है, आर – पार होना।
इस प्राणायाम को करने से शरीर में बहुत अधिक लाभ मिलता है। सूर्यभेदन प्राणायाम में दाहिनी नाक से श्वास लेते है। और बायीं नाक से श्वास को छोड़ते है। श्वास लेने की सभी प्रक्रिया में प्राण ऊर्जा सूर्यनाड़ी के माध्यम से जाती है। यह श्वास का प्रवाह नियंत्रित करता है।

जानिए,योग क्या होता है 

सूर्यभेदन प्राणायाम की विधि(Methods of Suryabhedan Pranayam in Hindi)

  • सबसे पहले आप पद्मासन में बैठ जाएं।
  • अब दाये हाथ की तर्जनी तथा बीच वाली ऊँगली को भूमध्य में रखकर अनामिका उंगली से बायीं नाक को बंद करें।
  • अब जल्दी से दायी नाक से लम्बी सांस अंदर ले।
  • और अंगूठे से दायी नाक को बंद कर दें।
  • अब आंतरिक कुंभक करें यानि सांस को अंदर ही रोके।
  • इस तरह तीनों बंद लगाएं।
  • पहले उड्डियान, जालंधर और मूलबंद खोले।
  • अब अपनी दायी नाक से सांस बहार निकले।
  • इस प्राणायाम को करते समय अपना ध्यान नाभि पर रखे।
  • इस क्रिया को तीन – चार बार दोहराएं।

Pranayam in Hindi 2019

सूर्यभेदन प्राणायाम के लाभ(Benefits of suryabhedan Pranayam in Hindi)

Image Source Google
  1. शरीर में ताप का विकास होता है।
  2. इससे मन शांत होता है।
  3. चर्म रोग दूर होता है।
  4. शरीर स्वस्थ रहता है।
  5. श्वास संबंधी समस्या ठीक होती है।
  6. रक्त का शुद्दिकरण होता है।
  7. उच्च रक्तचाप में सहायक है।
  8. प्यास कम लगती है।
  9. ह्दय रोग ठीक होता है।
  10. चेहरे की सुंदरता बढ़ती है।
  11. इससे अच्छी नींद आती है।
  12. भूख अच्छी लगती है।
  13. शरीर में चुस्ती आती है।
  14. सिर दर्द ठीक रहता है।
  15. आँखों की रोशनी बढ़ती है।
  16. Brian power increase
  17. आलस्य दूर होता है।
  18. एकाग्रता बढ़ती है।
  19. क्रोध नहीं आता है।
  20. पेट की बीमारियाँ ठीक होती है।
  21. व्यक्ति की आयु बढ़ती है।
  22. व्यक्ति जवान और शक्तिशाली दिखता है।

सूर्यभेदन प्राणायाम करते समय रखे ये सभी सावधनियां(Suryabhedan Pranayam precautions in hindi)

  • उच्च रक्तचाप वाले व्यक्ति को यह प्राणायाम नहीं करना चाहिए।
  • प्राणायाम करने वाला स्थान साफ – सुथरा होना चाहिए।
  • आस – पास, शोर – शराबा नहीं होना चाहिए।
  • सूर्यभेदन प्राणायाम करने से पहले एक बार अनुभवी व्यक्ति से सलाह जरूर ले।
  • जिन लोगों को गुस्सा यानि क्रोध बहुत ज्यादा आता है उनको यह प्राणायाम नहीं करना चाहिए।

शीतली और शीतकारी प्राणायाम- Definition, benefits or method in Hindi